7/26/2013

एक बतकुच्‍चन..

लिखाई, फिल्‍माई, कटाई के बारे में आनंद: "What you see in the film is very close to the script. I am a writer first…but I also love all aspects of filmmaking. For example, I love color grading. SHIP OF THESEUS was color graded by myself and Pankaj Kumar, the director of photography on the film. Instead of going to a studio, we color graded it ourselves on Photoshop! I find the process of painting with colors and shifting the light very interesting. In editing process, what I had written I later found to be longer than anticipated. The shooting process was not very intuitive. It was what I call, designed spontaneity—we [Anand Gandhi and Pankaj Kumar] allowed ourselves for spontaneity. Adash Prasad who was the first assistant editor eventually became the main editor. He kept on playing with the edit with a long time, though there were other editors [Satchit Puranik, Sanyukta Kaza]. It took about a year for the edit to take place and the shooting took place over one and a half year." (वीयरदमूवीज़डॉटकॉम के सौजन्‍य से)..

और यह एक बतकही, हिंदी में, गजेंद्र सिंह भाटी और फिलम सिनेमा के सौजन्‍य से.

7/22/2013

शिप ऑफ़ थीसियस

बहलती बारिश में दिन भर नाक सुड़कते रहने के बावज़ूद शाम को घर लौटने के रस्‍ते खुश हूं. बहुत दिनों बाद किसी हिंदुस्‍तानी फ़ि‍ल्‍म को देखकर फिर ऐसी खुशी हुई है, और खुशी से ज़्यादा एक ‘सेंस ऑफ़ प्राइड’ कुछ मन को छूकर गुज़र गया है कि देखो, कोई नयी उम्र का बच्‍चा किस सहजता से जटिल और महीन सवालों के संसार में ऐसी आसानी व रवानी से उतरता चला गया है, जिसकी ओर साहित्‍य के बड़कैये भी देखने की जगह कतराकर बाजू से निकल लेते हैं, वह काम लड़के ने स्‍थूल हिंदुस्‍तानी सिनेमा को महीन तरीकों की गुफ़्तगुओं से दुलराते, सहेजते कर लिया है.

बहुत सारे लोग होंगे जो आनंद गांधी की समझ और हासिल पर एतराज़ करेंगे (एक और दो तो मैं यहीं अपने आगे देख रहा हूं), हो सकता है उनके उठाये सवालों में इधर-उधर कहीं कुछ दम भी हो, मुझे (या ‘शिप..’ देखनेवाले अन्‍य दर्शकों को) उसकी चिन्‍ता नहीं करनी चाहिए; शहर, समय, सिनेमा के जिन-जिन छोरों को छू-टटोलकर ‘शिप..’ चली आती है, (हिंदुस्‍तानी सिनेमा में) फ़ि‍ल्‍म–माध्‍यम को जैसा विस्‍तार दे आती है, वह प्राथमिक व अपने गहरे अर्थों में ‘पोस्‍ट-ग्‍लोबलाइज़ेशन’ नागर भारतीय मानस के यर्थाथ का पहली वास्‍तविक सिनेमाई ‘शो-केसिंग’ है, और सिर्फ़ इतने-भर के लिए बहुत सारे बधाई की पात्र है कि निकट भविष्‍य के संभावित सिनेमा के वह इतने सारे रास्‍ते आपके आगे खोल देती है- जिसमें बच्‍चों-सी ईमानदारी है, भरोसा और रूटेडनेस है, और किसी भी तरह की कोई अदाबाजी, प्रिटेंसन नहीं. शीर्षक के अजनबीपने में हो सकता है बहुत सारे लोग सिनेमा-हॉल के भीतर जाने से कतरा जायें, मगर जो किसी हौसले में बहकर भीतर गए और फ़ि‍ल्‍म का दस मिनट निकाल लिए गए- वह चाहे सुदूर सुरीनाम में ‘शिप..’ के दर्शक हों, या सैन फ्रैंचिस्‍को में, या हमारे अपने सहारनपुर में ही- मुझे विश्‍वास है यक़ीनों के इस लगातार डगमगाते-डगमगाये समय में, ‘शिप..’ देखकर सिनेमा से बाहर आते हुए इस ज़मीन से उनके ‘सेंस ऑफ़ बिलॉंगिंग’ की भावनाओं में बहुत सारा तूफ़ान उठ रहा होगा; जैसे हॉल से बाहर यक-ब-यक मुझे लग रहा था मानो फ़ि‍ल्‍म की संगत में अपनी ज़मीनों में ही घूमता, मैं किसी दूर देश में कुछ उम्र गुज़ारकर, वापस अपने मुल्‍क लौटने की खुशी में नहाया लाजवाब हो रहा हूं!

‘शिप..’ की कहानी, उसका तकनीकी हासिल, उसकी ‘मैचलेस’ कास्टिंग, अनूठा प्रॉडक्‍शन-डिज़ाईन, इस पर और लोगों ने कहा होगा, कहने के अभी और मौक़े बनेंगे. सलीमा के ठंडे पड़े ब्‍लॉग पर फ़ि‍लहाल मैं सिर्फ़ मन की उमग ज़ाहिर करने आया हूं.. और गंभीर सिनेमा की परवाह करनेवाले भले लोगों को याद कराने कि जिनने अभी तलक न देखी हो, वो ज़रा हौसला-ए-बुलंद के साथ बारिश और रोज़मर्रा की फ़जीहतों से पार पाते सिनेमा हॉल पहुंच जायें. भारतीय सिनेमा को लुटेरों और दौड़नेवाले फ़क़ीरों से कहीं बहुत ज़्यादा ‘शिप ऑफ़ थीसस’ की ज़रुरत है.